गांधी शांति पुरस्कार 2019 | 2020 | Current Affairs 2021

गांधी शांति पुरस्कार 2019 | 2020 | Current Affairs 2021

गांधी शांति पुरस्कार 2019 | 2020

 

हाल ही में ओमान देश के पूर्व स्वर्गीय महामहिम ‘सुल्तान कबूस बिन सैद अल सैद’ (Sultan Qaboos bin Said Al Said) को वर्ष 2019 के लिए “गांधी शांति पुरस्कार” से सम्मानित किया गया है.

सुल्तान कबूस बिन सैद को यह गांधी शांति पुरस्कार भारत और ओमान के बीच संबंधों को मजबूत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए दिया गया है.

जबकि बांग्बंलादेश के ‘शेख मुजीबुर्रहमान’ (Sheikh Mujibur Rahman) को वर्ष 2020 के लिए गांधी शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.
शेख मुजीबुर्रहमान को बांग्लादेश में ‘बंगबंधु’ के नाम से जाना है. और इनकी बेटी ‘शेख हसीना’ वर्तमान में बांग्लादेश की प्रधानमंत्री है.

जबकि शेख मुजीबुर्रहमान को यह गांधी शांति पुरस्कार अहिंसक और अन्य गांधीवादी तरीकों के माध्यम से सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक परिवर्तन के लिए उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया गया है.

पिछले अन्य वर्षो के विजेता-

वर्ष 2015 के लिए कन्याकुमारी के ‘विवेकानंद केंद्र’ को

वर्ष 2016 के लिए ‘अक्षय पात्र फाउंडेशन’ और ‘सुलभ इंटरनेशनल’ को संयुक्त रूप से

वर्ष 2017 के लिए ‘एकई अभियान ट्रस्ट’

वर्ष 2018 के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन के सद्भावना दूत ‘योहेई ससाकावा’ को यह पुरस्कार मिला है.

गांधी शांति पुरस्कार-

गांधी शांति पुरस्कार, 1995 से भारत सरकार द्वारा “महात्मा गांधी” की 125 वीं जयंती के उपलक्ष्य में स्थापित एक वार्षिक पुरस्कार है.

गांधी शांति पुरस्कार राष्ट्रीयता, नस्ल, भाषा, जाति, पंथ की परवाह किए बिना सभी व्यक्तियों के लिए खुला है.

गांधी शांति पुरस्कार के तहत 1 करोड़ रुपये की राशि, एक प्रशस्ति पत्र, एक पट्टिका और एक अति सुंदर पारंपरिक हस्तकला / हथकरघा वस्तु पुरस्कृत व्यक्ति को दिया जाता है.