30 वां सरस्वती सम्मान (Saraswati Samman 2021) | Awards and Honours Current Affairs

30 वां सरस्वती सम्मान (Saraswati Samman 2021) | Awards and Honours Current Affairs

इस पोस्ट में “30 वां सरस्वती सम्मान (Saraswati Samman 2021) | Awards and Honours Current Affairs” के बारे में सभी जानकारी दिया गया है, सरस्वती सम्मान से किसी भी एग्जाम में कही न कही एक प्रश्न जरुर पूछे जाते है|

30 वां सरस्वती सम्मान (Saraswati Samman)
Awards and Honours Current Affairs

प्रसिद्ध मराठी लेखक ‘डॉ. शरणकुमार लिंबाले’ (Dr. Sharankumar Limbale) को वर्ष 2020 के ’30वें सरस्वती सम्मान’ (30th Saraswati Samman) के लिए चुना गया है।

शरणकुमार लिंबाले को यह सम्मान उनके मराठी उपन्यास ‘सनातन’ (Sanatan) के लिए दिया गया है, इनकी पुस्तक सनातन को वर्ष 2018 में प्रकाशित किया गया था.

इस पुस्तक में दलित संघर्ष के महत्वपूर्ण सामाजिक और ऐतिहासिक दस्तावेजों का संग्रह है।

जबकि इससे पहले 29वां सरस्वती सम्मान, वर्ष 2019 के लिए प्रसिद्ध सिंधी साहित्यकार ‘वासदेव मोही’ (Vasdev Mohi) को उनके कहानी संग्रह ‘चेकबुक’ (Checkbook) के लिए दिया गया था।

सरस्वती सम्मान (Saraswati Samman)

सरस्वती सम्मान की स्थापना 1991 में ‘के.के. बिड़ला फाउंडेशन’ द्वारा किया गया है।

सरस्वती सम्मान संविधान की 8वीं अनुसूची में उल्लिखित किसी भी भारतीय भाषा में पिछले 10 वर्षों में प्रकाशित भारतीय लेखकों की उत्कृष्ट साहित्यिक कृतियों को प्रतिवर्ष दिया जाता है।

सरस्वती सम्मान को वर्ष 1991 में शुरू किया गया था, और पहला सरस्वती सम्मान हिंदी के साहित्यकार ‘डॉ॰ हरिवंश राय बच्चन’ (Dr. Harivansh Rai Bachchan) को उनकी चार खंडों की ‘आत्मकथा’ के लिए दिया गया था।

जबकि इस पुरस्कार के तहत एक प्रशस्ति पत्र, स्मृति चिन्ह और 15 लाख रुपये की पुरस्कार राशि प्रदान की जाती है।